in

CryCry LoveLove

190+ Best Rahat Indori Shayari in Hindi | राहत इंदौरी शायरी

Rahat Indori

rahat-indori-shayri
Dr Rahat Indori Shayari in Hindi

नमस्कार दोस्तों, अगर आप इंटरनेट पर Rahat Indori Shayari (राहत इंदौरी शायरी) के अद्भुत संग्रह हिंदी में खोज रहे हैं, तो आपकी खोज यहाँ समाप्त होती है। Hindishayarii.com आपके लिए राहत इंदौरी शायरी का एक अद्भुत संग्रह लेकर आया है। हमने अपनी वेबसाइट पर अन्य प्रसिद्ध शायरी पर एक लेख भी लिखा है। आप इन Rahat Indori Shayari in Hindi में अपने दोस्तों, रिश्तेदारों, प्रेमिका, प्रेमी, पति या पत्नी के साथ साझा कर सकते हैं। इन Rahat Indori Shayri (राहत इंदौरी बेस्ट शायरी) को शेयर करने के लिए आप किसी भी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म जैसे फेसबुक, व्हाट्सएप, ट्विटर आदि का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। हमें उम्मीद है कि आपको हमारे पेज पर दिए गए ये हिंदी शेर पसंद आएंगे।

डॉ राहत इंदौरी के करियर ग्राफ में विशिष्ट कठिन-से-टिनसेल-टाउन तत्व है। एक पेंटर प्रोफेसर, कवि और फिर हिंदी फिल्म गीतकार बने। मुंबई के फिल्म उद्योग और दुनिया भर में उर्दू शायरी के श्रोताओं द्वारा उनकी प्रतिभा को देखे जाने से पहले राहत इंदौर विश्वविद्यालय में उर्दू साहित्य के शिक्षाशास्त्री थे। दार्शनिक झुकाव वाले एक संपूर्ण सज्जन, राहत इंदौरी को उनकी काव्य प्रतिभा और काम के प्रति पूर्ण प्रतिबद्धता के लिए जाना जाता है।

यदि ग़ज़ल इशारों की कला है, तो मान लेते हैं कि राहत इंदौरी वह कलाकार है जिसने अपनी शैली में झूला झूल कर इस कला को बखूबी निभाया। डॉ राहत इंदौरी द्वारा शेर हर लफ़्ज़ प्यार की एक नई शुरुआत का प्रतीक है, इतना ही नहीं यह उनकी ग़ज़लों के माध्यम से भी हस्तक्षेप करता है। वे सिस्टम को आईना भी दिखाते हैं। कोरोना से जंग के दौरान उनकी मौत हो गई। उनके कुछ शेर यहां पढ़ें

Rahat Indori Shayari in Hindi

वो चाहता था कि कासा ख़रीद ले मेरा
मैं उस के ताज की क़ीमत लगा के लौट आया

Woh chāhtā thā ki kāāsā khārid le merā
Māin us ke tāāj ki qimāt lāgā ke lāut āāyā.

ये ज़रूरी है कि आँखों का भरम क़ाएम रहे
नींद रखो या न रखो ख़्वाब मेयारी रखो

Yeh zāruri hāi ki āānkhon kā bhārām qāāyem rāhe
Neend rākho yā nā rākho khwāāb meyāri rākho.

हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे
कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते

Hum se pehle bhi musāfir kāi guzre honge
Kām se kām rāāh ke pātthār toh hātāte jāāte.

घर के बाहर ढूँढता रहता हूँ दुनिया
घर के अंदर दुनिया-दारी रहती है

Ghār ke bāāhār dhundhtā rehtā hoon duniyā
Ghār ke āndār duniyā-dāri rehti hāi.

आँख में पानी रखो होंटों पे चिंगारी रखो
ज़िंदा रहना है तो तरकीबें बहुत सारी रखो

Āānkh mein pāāni rākho honton pe chingāri rākho
Zindā rehnā hāi toh tārkibein bāhut sāāri rākho.

Rahat Indori Shayri in Hindi

रोज़ पत्थर की हिमायत में ग़ज़ल लिखते हैं
रोज़ शीशों से कोई काम निकल पड़ता है

Roz pātthār ki himāyāt mein ghāzāl likhte hāin
Roz shishon se koi kāām nikāl pādtā hāi.

ख़याल था कि ये पथराव रोक दें चल कर
जो होश आया तो देखा लहू लहू हम थे

Khāyāāl thā ki yeh pāthrāv rok dein chāl kār
Jo hosh āāyā toh dekhā lāhu lāhu hum the.

मैं आ कर दुश्मनों में बस गया हूँ
यहाँ हमदर्द हैं दो-चार मेरे

Māin āā kār dushmānon mein bās gāyā hoon
Yāhān humdārd hāin do-chār mere.

अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते

Āb toh hār hāāth kā pātthār humein pehchāāntā hāi
Umār guzri hāi tere sheher mein āāte jāāte.

मेरी ख़्वाहिश है कि आँगन में न दीवार उठे
मेरे भाई मेरे हिस्से की ज़मीं तू रख ले

Meri khwāāhish hāi ki āngān mein nā divāār uthe
Mere bhāi mere hisse ki zāmeen tu rākh le.

Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Loading…

0
Narazgi Shayari in hindi

290+ Narazgi Shayari in Hindi | नाराजगी शायरी | Naraz Shayari